History

चौहान राजपूत

Chauhan Chauhan, Chouhan or Chohan is a clan that ruled parts of northern India in the medieval period. Prithviraj Chauhan, the last Hindu king of Delhi, was a member of this community. Rajput bardic accounts describe the Chauhans as one of the four Agnikula Rajput clans which claims to have originated from a sacrificial fire-pit (agnikunda) at Mount Abu to fight against the Asuras or demons whereas in context Agnikula is considered as another branch of Suryavanshi Rajput descent. Descendants of these Chauhan Rajput ruled princely states in Western and Northern India until the pre-independence era. Manik Rai (AD 685), progenitor of Chauhan dynasty was lord of Ajmer and Sambhar in Western Rajwara. The Chauhans were historically a powerful group in the region now known as Rajasthan. For around 400 years from the 7th century AD their strength in Sambhar was a threat to the power-base of the Guhilots in the south-west of the area, as also was the strength of their fellow Agnivanshi clans. They suffered a set-back in 1192 when their leader, Prithviraj Chauhan, was defeated at the Battle of Tarain but this did not signify their demise. Anhil was the adam of Chauhans . Their are 39 Chauhan kings from Anhil to Prithviraj Chauhan. Chauhans are divided into 24 branches. The current dynasty of Bundi and Kota are more famous. Khinchi from Gagron and Radhogarh, Devde from Sirohi, Sonagre from Jalore Chauhan from Suryabah and Sanchore, Paveche from Pavagarh are famous for their bravery. Vansh: Agnivanshi Descended from: Dhundhar Common Ancestry: Cheema, Chahal, Chohan Chahar, Chatha, Chhillar Branches: Sanchora, Songara, Lonia Hada, Deora, Bhadurias, Chavan, Rajkunwar. Ruled in: Nadol, Jalor, Dhundhar, Ajmer, Delhi, Haryana, Neemrana, Hadoti, Godwar, Awadh Princely States: Ajmer (7th c.-1365), Ranthambore (1236–1302), Tulsipur (7th c.-1857 AD), Mainpuri, Devgadh Baria, Bundi, Sirohi, Kotah. गोत्र –…

रानी लक्ष्मीबाई

Read History of Rani Lakshmi Bai in Hindi - रानी लक्ष्मीबाई [caption id="attachment_4646" align="alignright" width="255"] rani lakshmi bai[/caption] (जन्म: 19 नवम्बर 1835 – मृत्यु: 17 जून 1858) मराठा शासित झाँसी राज्य की रानी और 1857 के प्रथम भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम की वीरांगना थीं जिन्होंने मात्र 23 वर्ष की आयु में ब्रिटिश साम्राज्य की सेना से संग्राम किया और रणक्षेत्र में वीरगति प्राप्त की किन्तु जीते जी अंग्रेजों को अपनी झाँसी पर कब्जा नहीं करने दिया। लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी जिले के भदैनी नामक नगर में 19 नवम्बर 1835 को हुआ था। उसके बचपन का नाम मणिकर्णिका था परन्तु प्यार से उसे मनु कहा जाता था। मनु की माँ का नाम भागीरथीबाई तथा पिता का नाम मोरोपन्त तांबे था। मोरोपन्त एक मराठी थे और मराठा बाजीराव की सेवा में थे। माता भागीरथीबाई एक सुसंस्कृत, बुद्धिमान एवं धार्मिक महिला थीं। मनु जब चार वर्ष की थी तब उनकी माँ की मृत्यु हो गयी। चूँकि घर में मनु की देखभाल के लिये कोई नहीं था इसलिए पिता मनु को अपने साथ बाजीराव के दरबार में ले गये जहाँ चंचल एवं सुन्दर मनु ने सबका मन मोह लिया। लोग उसे प्यार से "छबीली" कहकर बुलाने लगे। मनु ने बचपन में शास्त्रों की शिक्षा के साथ शस्त्रों की शिक्षा भी ली। सन् 1842 में उनका विवाह झाँसी के मराठा शासित राजा गंगाधर राव निम्बालकर के साथ हुआ और वे झाँसी की रानी बनीं। विवाह के बाद उनका नाम लक्ष्मीबाई रखा गया। सन् 1851 में रानी लक्ष्मीबाई ने एक पुत्र को जन्म दिया पर चार महीने की आयु में ही उसकी मृत्यु हो गयी। सन् 1853 में राजा गंगाधर राव का स्वास्थ्य बहुत अधिक बिगड़ जाने पर उन्हें दत्तक पुत्र लेने की सलाह दी गयी। पुत्र गोद लेने के बाद 21 नवम्बर 1853 को राजा गंगाधर राव की मृत्यु हो गयी। दत्तक पुत्र का नाम दामोदर…

झाँसी की रानी – खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी

झाँसी की रानी सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी, बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी, गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी, दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी। चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।। कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी, लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी, नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी, बरछी ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी। वीर शिवाजी की गाथायें उसकी याद ज़बानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।। लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार, देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार, नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार, सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवार। महाराष्टर-कुल-देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।। हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में, ब्याह हुआ रानी बन आई लक्ष्मीबाई झाँसी में, राजमहल में बजी बधाई खुशियाँ छाई झाँसी में, सुभट बुंदेलों की विरुदावलि सी वह आयी झांसी में, चित्रा ने अर्जुन को पाया, शिव से मिली भवानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।। उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजियाली छाई, किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लाई, तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भाई, रानी विधवा हुई, हाय! विधि को भी नहीं दया आई। निसंतान मरे राजाजी रानी शोक-समानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।…

सुभद्रा कुमारी चौहान

सुभद्राकुमारी का जन्म नागपंचमी के दिन 16 अगस्त 1904 को इलाहाबाद (उत्तरप्रदेश) के निकट निहालपुर गाँव में एक सम्पन्न परिवार में हुआ था। सुभद्राकुमारी को बचपन से ही काव्य-ग्रंथों से विशेष लगाव व रूचि था। आपका विद्यार्थी जीवन प्रयाग में ही बीता।  अल्पायु आयु में ही सुभद्रा की पहली कविता प्रकाशित हुई थी। सुभद्रा और महादेवी वर्मा दोनों बचपन की सहेलियाँ थीं। सुभद्राकुमारी का विवाह खंडवा (मद्य प्रदेश) निवासी  'ठाकुर लक्ष्मण सिंह' के साथ हुआ। पति के साथ वे भी महात्मा गांधी के आंदोलन से जुड़ गईं और राष्ट्र-प्रेम पर कविताएं करने लगी। 1948 में एक सड़क दुर्घटना में आपका निधन हो गया। साहित्य कृतियां आपका पहला काव्य-संग्रह 'मुकुल' 1930 में प्रकाशित हुआ। इनकी चुनी हुई कविताएँ 'त्रिधारा' में प्रकाशित हुई हैं। 'झाँसी की रानी' इनकी बहुचर्चित रचना है। कविता : अनोखा दान, आराधना, इसका रोना, उपेक्षा, उल्लास,कलह-कारण, कोयल, खिलौनेवाला, चलते समय, चिंता, जीवन-फूल, झाँसी की रानी की समाधि पर, झांसी की रानी, झिलमिल तारे, ठुकरा दो या प्यार करो, तुम, नीम, परिचय, पानी और धूप, पूछो, प्रतीक्षा, प्रथम दर्शन,प्रभु तुम मेरे मन की जानो, प्रियतम से, फूल के प्रति, बिदाई, भ्रम, मधुमय प्याली, मुरझाया फूल, मेरा गीत, मेरा जीवन, मेरा नया बचपन, मेरी टेक, मेरे पथिक, यह कदम्ब का पेड़-2, यह कदम्ब का पेड़, विजयी मयूर,विदा,वीरों का हो कैसा वसन्त, वेदना, व्याकुल चाह, समर्पण, साध, स्वदेश के प्रति, जलियाँवाला बाग में बसंत सुभद्राजी को प्राय: उनके काव्य के लिए ही जाना जाता है लेकिन उन्होंने राष्ट्रीय आंदोलन में भी सक्रिय भागीदारी की और जेल यात्रा के पश्चात आपके तीन कहानी संग्रह भी प्रकाशित हुए, जो निम्नलिखित हैं: बिखरे मोती (1932 ) उन्मादिनी (1934) सीधे-सादे चित्र (1947) Subhadra Kumari Chauhan (16 August1904 – 15 February 1948) was an Indian poet famous for Hindi poems composed primarily in Veer Ras, one of the nine Ras' (English: Flavour/Subgenre). Read More in English

रणरागिनी महारानी दुर्गावती

जब दस हजार राजपूतो की मामूली से फ़ौज लेकर एक राजपूतानी लड़ी पचास हजार की फ़ौज वाले तुर्क अकबर से मुगल सम्राट अकबर की विशाल सेना को पराजित कर वीरता और साहस का प्रतिमान स्थापित करने वाली रानी दुर्गावती जी मध्यकालीन भारत में जब देश भर के कई राजा मुगल सम्राट अकबर की गुलामी स्वीकार कर रहे थे तब बहुत से स्वाभिमानी राजपूत भी अपनी आन बान और शान के लिए लड़ रहे थे। इन्हीं में से एक रानी दुर्गावती ने अकेले अपने सामथ्र्य के बल पर अकबर को चुनौती दी थी। चंदेल राजवंश में जन्मी रानी दुर्गावती राजपूत राजा कीरत राय की बेटी थी। उनका जन्म 5 अक्टूबर 1524 को बांदा में हुआ था। उनका विवाह गौंड राजवंश के दलपत शाह से हुआ था। इस विवाह के बाद चंदेल और गौंड राज्यों की सम्मिलित शक्ति ने शेरशाह सूरी की बढ़ती शक्ति पर लगाम लगाने का कार्य किया। दुर्भाग्यवश विवाह के चार वर्ष बाद ही राजा दलपतशाह का निधन हो गया। उस समय दुर्गावती की गोद में तीन वर्षीय नारायण ही था। अतः रानी ने स्वयं ही गढ़मंडला का शासन संभाल लिया। उन्होंने अनेक मंदिर, मठ, कुएं, बावड़ी तथा धर्मशालाएं बनवाईं. वर्तमान जबलपुर उनके राज्य का केन्द्र था। उन्होंने अपनी दासी के नाम पर चेरीताल, अपने नाम पर रानीताल तथा अपने विश्वस्त दीवान आधारसिंह के नाम पर आधारताल बनवाया अपने पति की मृत्यु के बाद रानी दुर्गावती ने अपने एकमात्र पुत्र वीर नारायण को संभालने के साथ-साथ अपने साम्राज्य की भी जिम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली। दुर्भाग्यवश उस समय अकबर के सेनापति ख्वाजा अब्दुल मजीद असफ खान ने मुगल सेना के साथ रानी दुर्गावती के राज्य पर हमला कर दिया। शुरूआती युद्ध जीतने के बाद रानी दुर्गावती हारने लगी परन्तु उन्होंने मैदान छोड़ने और हार स्वीकार कर अकबर की गुलामी करने के बजाय आत्महत्या करना स्वीकार किया। 24 जून…

हाड़ी रानी – History In Hindi

[caption id="attachment_4503" align="alignright" width="300"] Hadi Rani Salumber[/caption] राजस्थान के इतिहास की वह घटना है, जब एक रानी ने विवाह के सिर्फ 7 दिन बाद ही अपना शीश अपने हाथों से काटकर युद्ध के लिए तैयार अपने पति की भिजवा दी, ताकि उनका पति अपनी नई नवेली पत्नी की खूबसूरती में उलझकर अपना कर्तव्य भूल न जाए। कहते हैं एक पत्नी द्वारा अपने पति को उसका फर्ज याद दिलाने के लिए किया गया इतिहास में सबसे बड़ा बलिदान है। यह रानी कोई और नहीं, बल्कि बूंदी के हाड़ा शासक की बेटी थी और उदयपुर (मेवाड़) के सलुम्बर ठिकाने के रावत चूड़ावत की रानी थी। इतिहास में यह हाड़ी रानी की नाम से प्रसिद्ध है। हाड़ी रानी का सरदार चूड़ावत से विवाह : अभी रानी के हाथों की मेंहदी भी नहीं छूटी थी । सुबह का वक्त था। रानी सज-धजकर राजा को जगाने आई। उनकी आखों में नींद की खुमारी साफ झलक रही थी। रानी ने हंसी ठिठोली से उन्हें जगाना चाहा। इसी बीच दरबान वहां आकर खड़ा हो गया। राजा का ध्यान न जाने पर रानी ने कहा, महाराणा का दूत काफी देर से खड़ा है। वह ठाकुर से तुरंत मिलना चाहते हैं। आपके लिए कोई आवश्यक पत्र लाया है उसे अभी देना जरूरी है। असमय दूत के आगमन पर ठाकुर हक्का बक्का रह गए। वह सोचने लगे कि अवश्य कोई विशेष बात होगी। राणा को पता है कि वह अभी ही ब्याह कर के लौटे हैं। आपात की घड़ी ही हो सकती है। सहसा बैठक में बैठे राणा के दूत पर ठाकुर की निगाह जा पड़ी। औपचारिकता के बाद ठाकुर ने दूत से कहा, अरे शार्दूल तू। इतनी सुबह कैसे? क्या भाभी ने घर से खदेड़ दिया है? सारा मजा फिर किरकिरा कर दिया। सरदार ने फिर दूत से कहा, तेरी नई भाभी अवश्य तुम पर नाराज होकर अंदर गई…

error: Content is protected !!